शाबर मन्त्र विज्ञान

शाबर मन्त्रों का आशयः-
स्व॰ वामन शिवराम आप्टे ने सन् १९४२ ई॰ में अपने ‘संस्कृत-कोष’ में ‘शाबर’ शब्द की व्युत्पत्ति इस प्रकार दी है;
‘शब (व)-र-अण्-शाबरः, शावरः, शाबरी।’
अर्थ में ‘जंगली जाति’ या ‘पर्वतीय’ लोगों द्वारा बोली जानीवाली ‘भाषा’ बताया गया है। वह एक प्रकार का मन्त्र भी है, इसका वहँ कोई उल्लेख नहीं है।
गोस्वामी तुलसीदास जी ने ‘श्रीरानचरितमानस’ (संवत् १६३१) में शाबर मन्त्रों का महत्त्व स्वीकार किया है, यह भी रहस्योद्घाटन भी किया है कि इस ‘साबर-मन्त्र-जाल’ के स्रष्टा भी शिव-पार्वती ही हैं।
कलि बिलोकि जग-हित हर गिरिजा, ‘साबर-मन्त्र-जाल’ जिन्ह सिरिजा।
अनमिल आखर अरथ न जापू, प्रगट प्रभाव महेश प्रतापू।।
आधुनिक काल में महा-महोपाध्याय स्व॰ पण्डित गोपीनाथ कविराज जी ने अपने प्रसिद्ध ‘तान्त्रिक-साहित्य’ ग्रन्थ के पृष्ठ ६२३-२४ में ‘शाबर’- सम्बन्धी पाँच पाण्डुलिपियों का उल्लेख किया हैः 
१॰ शाबर-चिन्तामणि पार्वती-पुत्र आदिनाथ विरचित, २॰ शाबर तन्त्र गोरखनाथ विरचित, ३॰ शाबर तन्त्र सर्वस्व, शाबर मन्त्र, तथा ५॰ शाबर मन्त्र चिन्तामणि।
उक्त पाँच पाण्डुलिपियों में सा प्रथम पाण्डुलिपि एशियाटिक सोसाइटी बंगाल के सूचीपत्र में संख्या ६१०० से सम्बन्धित है।
द्वितीय पाण्डुलिपि की चार प्रतियों का उल्लेख कविराज जी ने किया है। पहली उक्त सोसाइटी की सूची-पत्र ६०९९ से सम्बन्धित है, दूसरी म॰म॰ हरप्रसाद शास्त्री के विवरण की सं॰ १।३५९ है। तीसरी प्रति डेकन कालेज, पूना सूचीपत्र ५८० है। चौथी प्रति की तीन पाण्डुलिपियों का उल्लेख है, जो संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी के सूचीपत्र की संख्या २३८६७, २४८१५ और २४५७९ पर वर्णित है। ये तीनों अपूर्ण है।
तृतीय पाण्डुलिपि ‘शाबर-तन्त्र-सर्वस्व’ के सम्बन्ध में अपुष्ट कथन लिखा है।
चतुर्थ पाण्डुलिपि की तीन प्रतियों का उल्लेख हुआ है। पहली प्रति एशियाटिक सोसाइटी के सूचीपत्र की संख्या ६५५८ है। दूसरी प्रति बड़ौदा पुस्तकालय के अकारादि सूचीपत्र की संख्या ५६१४ पर है। तीसरी प्रति की दो पाण्डुलिपियां संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी के सूचीपत्र की संख्या २३८५६ और २६२३२ से सम्बद्ध है।
पञ्चम पाण्डुलिपि एशियाटिक सोसाइटी के सूचीपत्र की संख्या ६१०० पर उल्लिखित है।
‘उ॰प्र॰ हिन्दी संस्थान’ द्वारा प्रकाशित ‘हिन्दू धर्म कोश’ में सम्पादक डा‌॰ चन्द्रबली पाण्डेय ने ‘शाबर’ शब्द को अपने ‘कोश’ में स्थान तक नहीं दिया है-जबकि ‘शबर-शंकर-विलास’, ‘शबर-स्वामी’, ‘शाबर-भाष्य’ जैसे शब्दों को उन्होनें सम्मिलित किया है।
श्रीतारानाथ तर्क-वाचस्पति भट्टाचार्य द्वारा संकलित एवं चौखम्भा संस्कृत सीरीज आफिस, वाराणसी द्वारा प्रकाशित प्रख्यात ‘वृहत् संस्कृताभिधानम्’ (कोश) में भी ‘शबर’ या ‘शाबर’ शब्द का उल्लेख नहीं है।
उक्त विश्लेषण के पश्चात भी शाबर विद्या सर्वत्र भारत में अपना एक विशिष्ट अस्तित्व तथा प्रभाव रखती है। वस्तुतः देखा जाये तो समस्त विश्व में शाबर विद्या या समानार्थी विद्या प्रचलन में है। ज्ञान की संज्ञा भले ही बदल जाये मूल भावना तथा क्रिया वही रहती है।

About these ads

16 Comments

  1. saurabh bhardwaj
    Posted जुलाई 5, 2008 at 5:18 अपराह्न | Permalink | Reply

    great

  2. Posted जुलाई 5, 2008 at 5:40 अपराह्न | Permalink | Reply

    बढिया प्रयास है आपका, धन्यवाद । इस नये हिन्दी ब्लाग का स्वागत है ।

    पढें हिन्दी ब्लाग प्रवेशिका

  3. Udita Kanwar
    Posted अगस्त 2, 2008 at 10:36 पूर्वाह्न | Permalink | Reply

    ज्ञान की संज्ञा भले ही बदल जाये मूल भावना तथा क्रिया वही रहती है।
    आपने बिल्कूल सही फरमाया। अमेरिका, अफ्रीका तथा अन्य भी कई देशों की जनजातियां क्षेत्रीय भाषा में मन्त्रों का उच्चारण करते हुए मनोकामनार्थ प्रयोग करती हैं।

  4. Posted मई 11, 2009 at 1:00 अपराह्न | Permalink | Reply

    pandit ji paranam
    main apki boht abhari rahungi agar aap mere dukh ka nivaran karein,main ek ladke se boht pyar karti hu wo bhi mujhe pyar karta hai lekin shadi nahi karna chahta main usey itna chahti hu k maine use apna mann he mann pati swikar kar liya hai hamare beach kai baar sambandh bante2 ruk gaye,main uske bina ek pal nahi reh sakti,woh mujhse boht dur rehta hai kabi kabi hum milte hain lekin ab woh hamesha k liye muje chod kar chala gaya hai aap kuch aisa upay batay k woh jaldi se jaldi meri zindagi main wapas aa jaye aur mujhse shadi kar le mere paas uski tasvir hai,woh roz mujhe phone bhi karta hai uske gharwale uske liye ladki dekh rahe hai,plzzzzzzzzzz padit g meri madad kijiye mian uske bina nahi g sakti apka ehsaan main marte dum tak nahi bhulungi.plzzzzzzzzzzzzzzzzzzz pandit g main apse haath jodkar bhik mangti hu.

  5. dvs
    Posted जुलाई 3, 2009 at 4:12 अपराह्न | Permalink | Reply

    guru dev yah ek sarahniya prayas hai. me ek ladki ko chahta hu kropya use mohit karne ka koi saral tarika btaen. thanks “JAI GURU DEV”

  6. Posted अगस्त 8, 2009 at 9:09 अपराह्न | Permalink | Reply

    i want some vasikaran mantra

  7. Posted सितम्बर 17, 2009 at 12:50 पूर्वाह्न | Permalink | Reply

    Adardiya Pandit ji,
    Mere paas bhi ek prarthna hai pandit ji mein ek ladki se pyar karta hun aur wo bhi mujhe pyar karti hai mein usse shadi karna chahta hu aur wo mujhse par hamare ghar wale raazi nahi hain aap koi aisamantra ya upaay batayen iske dwara mein use paa lu ye aap ka ehsaan mein jindagi bahr nahi bhulunga please apna putra mankar upaay bataiyega.
    plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz mein uske bina mar jaunga .

  8. Rink's Desai
    Posted सितम्बर 30, 2009 at 4:24 अपराह्न | Permalink | Reply

    dont west ur time all bro sis b’coz its manra not work read article carefully sare sabri mantra athure hote he …..duniya me aaj tak koy esa nahi jo pura sabri mantra janta ho ya puri kriya janta ho….

  9. Rink's Desai
    Posted सितम्बर 30, 2009 at 4:29 अपराह्न | Permalink | Reply

    sorry guredev me kisiko heart nahi akrna cahta par agar aap gani ho to meere man ki sachhi bat jan javo ge.
    mera nam rinkal desai he gam ka nam tarmaliya gujarat ka hu me ……..

  10. dinesh missra
    Posted दिसम्बर 1, 2009 at 5:51 अपराह्न | Permalink | Reply

    sir plz. tell me SRI VISHNU or NARAYAN sabar mantra

  11. Posted जून 5, 2010 at 6:33 अपराह्न | Permalink | Reply

    mera mantra uru mantra saksad kure mantra ishwar wacha

    • Posted जून 5, 2010 at 6:36 अपराह्न | Permalink | Reply

      alhah bismilha raheman rahim salle alhah sayad naam ibrahim hameddun maszzid sadguru gahininath gaibansha baba ko darud pohache aur duva bakh kare

  12. Posted जून 5, 2010 at 6:40 अपराह्न | Permalink | Reply

    ye durgeshwari dumavati kamalavati bajigar hanuman ji panchmukhihanumanji namo he namo navnath maharajay nam jar jar bhakh jalindranathay nam machindranathay nam gorakhshnathay nam kanifnathay nam nageshnathay nam bharatnathay nam revan nathay nam sadguru gahininathay nam la elahi ellalah mohammad russilla

  13. Posted जून 20, 2010 at 6:36 अपराह्न | Permalink | Reply

    guriji mujhe kaarib saat saal se awaaze sunai padti jaise ki koi mere bare me baat kaar raha ho kaphi illaaz kaarraya koi fayada nahi hua koi na koi paresani bani rehti hai koi upay bataye jiss se mere kast door ho jaye mai swasth aur khoos rahoon

  14. Kalpana Koli
    Posted अक्टूबर 10, 2010 at 2:15 अपराह्न | Permalink | Reply

    Namaste Paditji….
    Main pehle 2.1/2 saal tak Navanth Bhagawan ki pothi padhati thi lekin ab waqt nain mila pata…..panditji actually main ek ladke se bahut pyaar karti hun aur woh bhi mujhse pyaar karte hai lekin ye abhi kuch 6 mahine pahele hamare doston ne hamare bich misunderstanding bana kar hamain aalag kar diya hai. main abhi 23 saal ki hun hum ye saal main shaadi karne wale the lekin ye misunderstanding ke wajhase wo abhi shaadi ke liye naa bola rahe hai….panditji bahut prayaas ke baad maine hamare bich ke misunderstanding door ki aur unko bhi pata ki hamare doston ne hamare bich jhagada lagaya…aur abhi khud maje le rahe hai…. lekin jo hamre jhagade main hua wwoh abhi bhul nahin paa rahe hai….aur main agar unse phone karu toh kahte hai ki mujhe phone mat karo…mujhe abhi tumse pyaar nahi ho sakta….unke gharwale bhi unpar shaadi ke liye jor dala rahe hai….lekin woh kahate hai ki mujhe shaadi nahin karni….
    Panditji aap mujhe kuch aisa mantra bataye ya phir prayog ya phir upavaas bataye ki inka maan mere alawa kisi aur ladki ke bare main naa soche…aur unke maan main mere liye shaadi ke vichar aajaye….aur abhi jaisi misunderstanding koi bhi nirman na kare aur sabhi pichali baatein bhoola kar woh mere paas aajaye….aur jald se jald woh mere ghar par rishta leke aaye..
    Panditji plz…..meri madad karo kunki mere ghar wale merei shaadi ke liye war dhood rahe hai…..plzzz…..plz…muje jaldi replay kare…..

  15. Mahesh
    Posted अक्टूबर 31, 2011 at 7:54 अपराह्न | Permalink | Reply

    Meroko aesa mantra bataye ki me jisko bhi jahu ho mere was me kar saku. Ladka.ladki.or koy bhi bada admi or pesa vala

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 624 other followers

%d bloggers like this: