शत्रु-मोहन

“चन्द्र-शत्रु राहू पर, विष्णु का चले चक्र। भागे भयभीत शत्रु, देखे जब चन्द्र वक्र। दोहाई कामाक्षा देवी की, फूँक-फूँक मोहन-मन्त्र। मोह-मोह-शत्रु मोह, सत्य तन्त्र-मन्त्र-यन्त्र।। तुझे शंकर की आन, सत-गुरु का कहना मान। ॐ नमः कामाक्षाय अं कं चं टं तं पं यं शं ह्रीं क्रीं श्रीं फट् स्वाहा।।”
विधिः- चन्द्र-ग्रहण या सूर्य-ग्रहण के समय किसी बारहों मास बहने वाली नदी के किनारे, कमर तक जल में पूर्व की ओर मुख करके खड़ा हो जाए। जब तक ग्रहण लगा रहे, श्री कामाक्षा देवी का ध्यान करते हुए उक्त मन्त्र का पाठ करता रहे। ग्रहण मोक्ष होने पर सात डुबकियाँ लगाकर स्नान करे। आठवीं डुबकी लगाकर नदी के जल के भीतर की मिट्टी बाहर निकाले। उस मिट्टी को अपने पास सुरक्षित रखे। जब किसी शत्रु को सम्मोहित करना हो, तब स्नानादि करके उक्त मन्त्र को १०८ बार पढ़कर उसी मिट्टी का चन्दन ललाट पर लगाए और शत्रु के पास जाए। शत्रु इस प्रकार सम्मोहित हो जायेगा कि शत्रुता छोड़कर उसी दिन से उसका सच्चा मित्र बन जाएगा।

4 Comments

  1. yogesh
    Posted सितम्बर 20, 2009 at 11:59 अपराह्न | Permalink | प्रतिक्रिया

    bhootpret bahha nivarak mantra
    om dakshinmukhay panchmukhhanumate karalvadnay narsinghay om hram hreem hroom hrem hrom hrah: sakalbhootpretdamnaay swaha
    vidhi : navratra me tuesday/saturday ko panchmukhhanuman ji ke photo ke samne tamra patra me jal bhar kar 11000 jap kare fir us jal ko ROGI ko pilaye

  2. Posted अगस्त 13, 2010 at 4:55 अपराह्न | Permalink | प्रतिक्रिया

    what will be the mantra.

  3. Posted अगस्त 13, 2010 at 4:58 अपराह्न | Permalink | प्रतिक्रिया

    howtogetbackourlostwealth/money,

    what will be the mantra.

  4. phataksunils
    Posted सितम्बर 22, 2010 at 2:16 अपराह्न | Permalink | प्रतिक्रिया

    Nice

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: